लेखक के रूप में

अकादमी व्यापक रूप से संस्कृत के शिक्षण-प्रशिक्षण एवं प्रचार-प्रसार का कार्य करती है, अस्तु बड़े स्तर पर इससे सम्बन्धित साहित्य के लेखन एवं प्रकाशन अपेक्षित है. प्रारम्भिक स्तर पर संस्कृत सीखने वाले जनसामान्य से लेकर प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करने वाले छात्रों तक के लिए सरल और सुबोध्य विषयवस्तु के निर्माण एवं प्रकाशन हेतु संस्कृत के कुछ योग्य और समर्पित लेखकों का अकादमी के साथ होना भी आवश्यक है. संस्कृत में निहित ज्ञान-विज्ञान का क्षेत्र इतना व्यापक और सार्वकालिक है कि किसी भी कालावधि में उसकी प्रासंगिकता समाप्त नहीं हो सकती. आवश्यकता इस बात की है कि समय और युगप्रवृत्ति के अनुसार हम चीजों को उस रूप में उपस्थित करें, जिस रूप में उनकी आवश्यकता है.
भाषा सम्बन्धी समस्याओं के कारण जनसामान्य संस्कृत के साथ स्वयं को नहीं जोड़ पा रहा है. आधुनिक विद्यालयों/महाविद्यालयों में संस्कृत का अध्यापन भी संस्कृत भाषा के माध्यम से नहीं हो पा रहा है. ऐसी स्थिति में हमें समसामयिक एवं सरल क्षेत्रीय भाषाओं में संस्कृत के ग्रन्थों और साहित्य का अनुवाद करना पड़ेगा, तभी हम उस सुगन्ध को वातावरण में विखेर पाएंगे, जिसे सूंघकर जनसामान्य उसके उत्स अर्थात् मूलसंस्कृत ग्रन्थों तक पहुँचने के लिए लालायित हो उठे.
विभिन्न स्तरों पर अध्ययन हेतु निर्धारित विषयवस्तु की सरल एवं क्षेत्रीय भाषा में उपलब्धता सुनिश्चित करने के उद्देश्य से अकादमी ने साहित्य के पुनर्लेखन/अनुवाद का कार्य प्रारम्भ किया है. जो विद्वान् इस लेखन कार्य में सहयोग करने के लिए आगे आना चाहते हैं, उनके लिए आवश्यक संसाधन उपलब्ध कराने में अकादमी अपना पूर्ण सहयोग देगी.

लेखन के विषय ये हो सकते हैं –

  • प्रारम्भिक संस्कृत शिक्षण
  • माध्यमिक स्तर के लिए संस्कृत व्याकरण
  • स्नातक/परास्नातक स्तर के लिए वैदिक साहित्य/व्याकरण/दर्शन/लौकिक साहित्य
  • प्रतियोगी परीक्षार्थियों के लिए पुस्तकें
  • वैदिक साहित्य का हिन्दी/अंग्रेजी आदि में अनुवाद
  • आर्ष काव्यों का हिन्दी/अंग्रेजी आदि में अनुवाद
  • संस्कृत के काव्यों/नाटकों/कथा साहित्य का हिन्दी/अंग्रेजी आदि में अनुवाद
  • संस्कृत नीति साहित्य का हिन्दी/अंग्रेजी आदि में अनुवाद
  • संस्कृत में विज्ञान एवं पर्यावरण
  • संस्कृत में जीवनकौशल एवं प्रबन्धन
  • संस्कृत में धर्म और जीवनदर्शन
  • अन्य समसामयिक विषयवस्तु
अकादमी की लेखनकार्य योजना से जुड़ने के लिए यहाँ पर क्लिक करें

हमसे जुड़िये

शिक्षक के रूप में

अकादमी में प्रारम्भिक स्तर से लेकर प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए निर्देशन का कार्य कर रही है, जो विद्वान् शिक्षक के रूप में कार्य

आवेदन करें
कलाकार के रूप में

अकादमी संस्कृत भाषा और साहित्य का नाट्य,गायन आदि ललित कलाओं के माध्यम से प्रचार-प्रसार करने का कार्य कर रही है...

आवेदन करें
प्रचारक के रूप में

व्यापक जनसम्पर्क और विभिन्न प्रचार माध्यमों से संस्कृत का प्रचार-प्रसार करना अकादमी की प्राथमिकता है,जो विद्वान् इस

आवेदन करें